बहुतै जरूरी यात्री प्रतिक्षालय

karvi kasba 1 smallजिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, बस अड्डा। हेंया यात्री प्रतिक्षालय नाम खातिर बना है। वहौ दारू के दुकान के लगे है। यहै से बदबू आवत है। दारू पियै वाले उल्टी सीध बातैं करत है। अगर यात्री प्रतिक्षालय दूसर जघा बन जाये तौ नींक होई। या कहत हैं यात्री।
या मामला का लइके खबर लहरिया पत्रकार डी.एम. बलकार सिंह से बात करिन तौ उनकर कहब है-“यात्री प्रतिक्षालय बनै खातिर मड़इन से जमीन दें खातिर कहा गा, पै मड़ई जमीन दें का नहीं तैयार होत हैं। काहे से कि सरकार जमीन के हिसाब से मड़इन का मुआवजा नहीं देत है।”
इलाहाबाद से कर्वी आवैं वाले पवन अउर मुन्ना का कहब है कि हिंया यात्री प्रतिक्षालय बहुतै छोट सा बना हवै। जेहिमा कि लगभग पन्द्रह मड़ई बइठ सकत हैं। दूसर बात दारू के दुकान है। यहै से बदबू आवत है।”
कुछ यहिनतान कहिन चुन्नू अउर किरन कहत हैं। सबहिन से ज्यादा मेहरिया अउर बिटियन का परेशानी झेलै का परत है। कर्वी बस अड्डा मा यात्री प्रतिक्षालय बनब जरूरी है।
परिवहन विभाग के बुकिंग क्लर्क राजेन्द्र सिंह कहिन-“सरकार का दारू के दुकान का हिंया से हटावैं के जरूरत है।”