बलात्कार की शिकायतकर्ता और परिवार को सुनाई पंचायत ने सज़ा

साभार: विकिमीडिया कॉमन्स

राजस्थान के चित्तौड़गढ़ जिले में एक रेप पीड़िता के परिवार को धमकाने और केस वापस लेने का दबाव बनाने का मामला सामने आया है।

इतना ही नहीं, आरोपी के खिलाफ कोर्ट में बयान बदलने से इनकार करने पर गांव की पंचायत ने परिवार का हुक्का-पानी बंद कर दिया है। ऐसे में इस पीड़ित परिवार को सामाजिक बहिष्कार का सामना करना पड़ रहा है।

युवती ने बताया, ‘कोर्ट में जब मामला चल रहा था, तब गांव के कुछ लोग आए और हमें केस वापस लेने और की धमकी दी। साथ ही हम पर सुलह के लिए दबाव बनाया।’ रेप पीड़िता के परिवार ने बताया, ‘जब कोर्ट में बयान बदलने से इनकार कर दिया गया तो हमें धमकी दी जा रही है। हमें सामाजिक बहिष्कार का सामना करना पड़ रहा है।’