बलात्कारी तांत्रिक बाबा को मिली 25 साल की सजा

साभार: विकिपीडिया

कोर्ट ने निम्बार्क आश्रम वृंदावन में रहने वाले तांत्रिक को झाड़ फूंक के बहाने विवाहिता से बलात्कार करने के मामले में 25 साल के कारावास की सजा सुनाई है। तांत्रिक वारदात के बाद से ही जेल में बंद है।
हाथरस जनपद की रहने वाली एक विवाहिता भूत प्रेत का इलाज कराने अपने पति के साथ 19 जुलाई 2017 को वृंदावन निम्बार्क आश्रम हनुमान मंदिर में माधव विलास के रहने वाले तांत्रिक द्वारिकादास के पास आई थी। तांत्रिक ने रात दस बजे इलाज के बहाने पतिपत्नी को रोक लिया। दोनों को छत पर बने कमरे में ले गया। पति के हाथ में एक दीपक देकर कमरे से बाहर कर दिया और कहा जब तक दीपक बुझ जाए वह भीतर आए।
तांत्रिक ने इस दौरान महिला का मुंह कपड़े से बांध कर बलात्कार किया। पति के आने पर पत्नी ने सारी जानकारी पति को दी। इस संबंध में पीड़िता ने थाना कोतवाली वृंदावन में रिपोर्ट दर्ज कराई।
पुलिस ने तांत्रिक को जेल भेज दिया। आठ सितंबर 2017 से केस की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट के न्यायाधीश विवेकानंद शरण त्रिपाठी ने शुरू की। कोर्ट ने 4 अप्रैल को तांत्रिक को 25 साल के कारावास तथा 25 हजार के जुर्माने की सजा सुनाई है।