बजै लाग चुनावी बिगुल

साभार: विकिमीडिया
साभार: विकिमीडिया

16 सितम्बर से कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गाँधी बुन्देलखण्ड के कइयौ जिलन मा आपन खाट सभा करिन हवैं। राहुल गाँधी सबसे पहिले चित्रकूट जिला मा आये हवैं। काहे से विधानसभा चुनाव का अब चार पांच महीना रहिगे हवै। यहै कारन कांग्रेस के नेता बुन्देलखण्ड के धरती मा आये हवै अ वोट खतिर जनता का रिझावत हवैं राहुल गाँधी कहत हवै कि जबै उनकर सरकार आ जई तौ किसानन के कर्जा माफ़ कइ दीन जई, अउर बिजली का बिल भी आधा-आधा लीन जई। जबै कांग्रेस के सरकार रहै तबै किसानन के 70 हजार करोड़ रुपिया माफ़ कीन गा रहैं। पै प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी बड़े बड़े ब्यापरिन के 11 हजार करोड़ रुपिया माफ़ करिन हवै। हिया के किसान गरीबी मा मरे जात हवै अउर प्रधान मंत्री का विदेश जायें से फुरसत नहीं मिलत। किसानन के साथै धोखा कीन जात हवै। जबै किसान आपन दाल के फसल बेच दीन तबै दाल के दुगुना दाम कर दीन गे रहै। गरीबन का खाता खुलवा के 15—15 लाख रुपिया नहीं भेजा गा हवै। सपा अउर बसपा के राज मा बुन्देलखण्ड के मड़ई अउर गरीब होइगे हवैं। पै उन कर गरीबी कउनै नहीं देखा आय।
विधानसभा का चुनाव हवैं। यहै कारन सबै नेता अउर मंत्री का बुन्देलखण्ड के याद आवत हवैं। आपन आपन उम्मीदवारन का टिकट देवावै खातिर चुनाव होय के पहिले उंई गरीब जनता का कइयैतान के सपना देखावत हवैं। पै जबै सरकार बन जात हवै तौ सब भूल जात हवैं। पै मड़इन का भी धयान दे का चाही कि उंई आपन खातिर नीक सरकार चुनै जउन खाली सपना न देखावै, सपना का सच भी करैं? अउर जनता खातिर कुछ कइ सकै।