फूलमाला बेच के करत गुजारा

mahila lucknow - phoolwaliजिला फैजाबाद, ब्लाक मया, ग्राम केशपुर, मजरा दीनापुर। हिंआ कै रहै वाली उष्मा कुमारी बचपन से फूल बेचकै कराथिन गुजारा। उष्मा कुमारी बताइन कि हमार उम्र चालीस साल बाय। हमार पति पैर से विकलांग हइन। वे कुछ काम धंधा नाय कै पउतिन। हम साइकिल से गांव-गांव फूल बेचि के आपन परिवार चलावत हई।
हमरे तीन लडि़कै बाटिन लकिन हिम्मत नाय हारित। बच्चन का पढ़ावत लिखावत हई। वही मा पति कै देखभाल, भी करी थी। थोर बहुत फूल बोय दी थी यही से घर कै खर्चा चलत बाय। बरसात के दिन मा छप्पर कै घर चुवाथै बहुत दिक्कत हुआथै। प्रधान से कहेै पै कहा थे सूची मा नाव नाय बाय। पति कै विकंलाग पेंशन नाय बनी बाय।
प्रधान रामप्रताप विश्वकर्मा बताइन कि पेंशन कै फार्म भर दिहे हई, आये तौ मिले। आवास ताईं सूची मा नाव न हुअय से आवास नाय मिलत पावत बाय।