फांसी लगा के जान दिहिस

c mahela mudda ahiraजिला चित्रकूट, ब्लाक मानिकपुर,गांव अहिरा। हिंया के मड़ई कहिन कि नीता देवी 1 दिसंबर का फांसी षाम पौने छह बजे फांसी लगा के आपन जान दइ हिहिस। यहिके सूचना रैपुरा थाना मा दीन गे। पुलिस मउके मा पहुंच के लाष का पोस्ट मार्टम खातिर भेज दिहिस।
ब्लाक रामनगर, गांव रामपुर।
हिंया के रामप्रकाष का कहब हवै कि बहिनी नीता देवी के षादी सन् 1999 मा मानिकपुर के अहिरा गांव मा रहै वाले कामता साथै कीने रहौं। बहनोई मजूरी करत रहै। बहिन के गरीबी ज्यादा रहै। यहिसे वा परेषान रहत रहै। बहिनी के तीन छोट.छोट बच्चा हवै। नीता देवी कत्तौ नहीं बताइस कि वहिका ससुराल मा समस्या हवै। 1 दिसंबर का षाम पांच बजे फोन करिस कि मोहिका आ के लेवा जाव। मैं कहंव कि लेवा जाव। मै कहौं कि (2 दिसंबर) सकारे लेवावै आ जइहौं। षाम साढ़ेे छह बजे पता लाग कि वा फांसी लगा के मरगे हवै।
नीता देवी के देवर रामविलाश का कहब हवै कि जबै वा फांसी लगाइस रहै। तबै कउनौ घर मा नही रहैं। नीता देवी अपने से फांसी लगा के मर गे हवै। रैपुरा थाना के दरोगा का कहब हवै कि मइके पक्ष वाले अबै कउनौ के खिलाफ रपट नहीं लिखाइन हवै। रपट लिखइहैं तौ कारवाही कीन जई।