प्रशासन की लापरवाही से गई एक और गुड़िया की जान, इस बार चित्रकूट के पहाड़ी ब्लॉक में

जिला चित्रकूट, ब्लाक पहाड़ी, गांव चौरा 10 अगस्त का 30 बच्चन के आक्सीजन के कमी के कारन मउत का मामला सउहें आवा हवैं। यहिनतान 11 अगस्त का हिंया आक्सीजन के कमी से डिलेवरी के समय गुड़िया अउर वहिके बच्चा के मउत होइ गे हवै।
परिवार वाले डाक्टर के ऊपर आरोप लगावत हवै अउर स्वास्थ्य विभाग गुड़िया का बीमार बतावत हवै। गुड़िया का मनसवा गुड्डन बताइस कि जबै बच्चा पैदा भा रहै तौ रोवत नहीं रहै।
वहिके बाद तुरतै मउत होइ गे हवै। तबै डाक्टर गुड़िया का जिला अस्पताल रिफर करे का कहिन काहे से पहाड़ी के अस्पताल मा आक्सीजन के व्यवस्था नहीं रहै। तबै जिला अस्पताल लइ जात दरकी रास्ता मा गुड़िया के मउत होइ गे हवै। अल्ट्रासाउंड कराये हन तौ वहिमा सब ठीक बतावत रहै। गोड़ फूले रहै तौ डाक्टर कहत रहै पेट मा बच्चा होत दरकी कत्तौ-कत्तौ इनतान के लक्षण देखाई देत हवै। गुड़िया के मौसी चुनिया का कहब हवै कि अस्पताल मा व्यवस्था नहीं रहि आय तौ मरीज का भर्ती न करे का चाही। आक्सीजन की कमी के कारन बाद मा रिफर करिन तौ रास्ता मा जच्चा के मउत होइ गे हवै यहिके खातिर डाक्टर जिम्मेदार हवै स्टाप  नर्स नीलू का कहब हवै कि गुड़िया के खून के कमी रहै यहै कारन वहिका  रिफर कइ दीन गा रहै जेहिसे रास्ता मा मउत होइगे हवै।
स्वास्थ्य केंद्र के  दाई गिरजा का कहब हवै कि गुड़िया दवाई खातिर आई रहै तौ वहिमा पीलिया  होइ गा रहै तबै वा पर्चा फाड़ के खूब रोवत रहै। वहिके गोड़ फूले रहै।
सरकार गर्भवती मेहरियन खातिर हौसला पोषण जइसे योजना तौ चलावत हवै पै तबहूं गर्भवती मेहरियन के मउत होइ जात हवै।

रिपोर्टर- नाजनी रिजवी

Published on Aug 16, 2017