पेठे का नाम आते ही मुंह में आये पानी

 

गर्मी के मौसम में खाने वाली मषहूर चीजें में गिना जाता है पेठा। जिला चित्रकूट, ब्लाक मऊ कस्बा मऊ के रहने वाले राजा तीन साल से पेठा बनाने का काम करते हंै। उनका कहना है कि दो बीघा जमीन में बरिया कुम्हड़ा कुंवार के महीने लगाते हैं। जब वह तैयार हो जाता है तो बरिया कुम्हड़ा को मषीन से गोदते हंै। इसके छोटे-छोटे टुकड़े काटते हैं। उबालते समय चीनी डालते हैं फिर धूप में सुखाया जाता है। पेठा पचास रूपये किलो मिलता है।