पानी लाएं या पानी बचाएं? देखिए बाँदा जिले के महेदू गाँव में क्या कर रहें है लोग

पानी जेहिके बिना हम जियें खातिर सोंच भी नहीं सकित, अगर वहिके बर्बादी लापरवाही के कारन हो अउर वा जघा के मड़ई पियें खातिर बहुतै दूरी से पानी लावत हैं। बांदा जिला, ब्लाक तिंदवारी मा महेदू गांव है, हेंया के पाइप लाइन कइयौ महीना से टूट पड़ी है पै जल संस्थान विभाग का कउनौ परवाह नहीं आय।
बिंदा का कहब है कि पाइप लाइन कइयौ महीना से टूट है यहै कारन स्कूल जायें वाले बच्चन का परेशानी होत हैं। बच्चा गिर जात है अउर मड़इन का एक्सीडेंट होइ जात है। राममिलन का कहब है कि सड़क मा पानी भरा होय से एक बूढ़ मड़ई गिर गा रहै। हेंया कत्तौ मड़इन का पानी नहीं मिलत तौ कत्तौ इनतान पानी बर्बाद होत है। रामस्वरूप बताइस कि पाइप लाइन टूटे से सगले कीचड़ होइ जात है अउर आगे पानी नहीं जा पावत आय। फूला देवी का कहब है कि एक किलोमीटर दूरी से पानी लावें का पड़त है।
जल संस्थान के जेई आर. के. मौर्य या समस्या के बारें मा बात करे से मना कइ दिहिन है।

रिपोर्टर- शिवदेवी

Published on Jan 23, 2018