पानी, पानी हाय रे पानी

visesank5

खाली हवै बर्तन
खाली हवै बर्तन

चित्रकूट जिला के गांवन मा पानी के समस्या जस के तस बनी रहत हवै। जइसे कि मऊ ब्लाक, कस्बा मुरका का चैन पुरवा अउर कस्बा खण्डेहा का पुरवा अरखन का डेरा मा हवै।
कस्बा मुरका का चैन पुरवा। हिंया के प्रमोद सिंह, भैरव सिंह अजय सिंह अउर भानप्रताप समेत दस लोगन का कहब हवै कि लगभग पचास बरस से एकौ हैण्डपम्प नहीं लाग हवै। पानी भरैं खातिर छह सौ मीटर दूर मुरका कस्बा मा फैक्ट्री के लगे जाये का परत हवै। पानी भरैं के चक्कर मा मजूरी करैं अउर दुकान खोलैं खातिर देर होइ जात हवै। प्रधान जोखनी से कइयौ दरकी कहे हन, पै वा नहीं सुनत हवै। हैण्डपम्प लाग जाये तौ पानी के समस्या से न जूझै का परै।
प्रधान जोखनी के मनसवा प्रयाग का कहब हवै कि अबै नये हैण्पम्प लगवावैं खातिर नहीं पास भे हवै। जबै पास होइहैं तौ। नवा हैण्डपम्प लगवा दीन जई।
ब्लाक मऊ, कस्बा खण्डेहा का पुरवा अरखन का डेरा। हिंया के संतोष सावित्री अउर रामप्रताप समेत बीस मड़इन का कहब हवै कि लगभग दस बरस से रहित हन। पानी खातिर डेढ़ सौ मड़ई आधा किलो मीटर दूर कुंआ से पानी लइत हन। मड़ई तौ कउनौतान पियै खातिर पानी लइ आवत हवै, पै जानवर पानी खातिर पियासे हिंया हुंवा भटकत फिरत हवैं। उनका पियै खातिर एक डिब्बा अउर दुइ बाल्टी पानी लागत हवै। हैण्डपम्प लगवावैं खातिर कइयौ दरकी प्रधान भइयन कोल से कहा गा, पै वा ध्यान नहीं देत हवै। अगर एक हैण्डपम्प लाग जाये तौ हमार इं समस्या खतम होइ सकत हवै।
प्रधान भइयन कोल का कहब हवै कि पांच महीना पहिले ब्लाक मा लिखित दरखास दीने हौं। पच्चीस हैण्डपम्प के मांग कीने हौं। अगर हैण्डपम्प पास होइहैं तौ लगवा देहूं।