पानी, पानी कहां मिली पानी

DSC08677
शिवरामपुर का हैण्डपम्प़

जिला चित्रकूट, ब्लाक कर्वी, कस्बा शिवरामपुर रेलवे स्टेशन। हिंया पांच हैण्डपम्प लाग हवै। वहिमा से एक हैण्डपम्प बस चलत हवै। चार हैण्डपम्प मा कउनौ एक बरस से तौ कउनौ तीन महीना से खराब हवै। पानी खातिर हजारन यात्री बहुतै परेशान होत हवै।
शिवरामपुर रेलवे स्टेशन मास्टर राजीव कुमार का कहब हवै-“ या बात तौ सही आय कि पानी के समस्या हवै। हैण्डपम्प बनावै खातिर डब्ल्यू आई विभाग मा कइयौ दरकी कहा गा, पै कउनौ ध्यान नहीं दीन जात हवै।”
कस्बा के कैलाश  अउर मुकेश  का कहब हवै कि पानी के समस्या हवै। गर्मी मा मड़ई पानी खातिर हिंया-हुंवा भटकत हवैं। हैण्डपम्प बनावै खातिर कइयौ दरकी रेलवे स्टेशन मास्टर से कहे हन, पै वा ध्यान नहीं देत हवै।
कुछ यहिनतान कहत हवै कानपुर शहर के राखी अउर सविता। उनकर कहब हवै कि पानी के चक्कर मा ट्रेन छूटै का डेर रहत हवै। एक हैण्डपम्प मा भीड़ लाग जात हवै। अपने छोट-छोट बच्चन का पानी लें उतरै का परत हवै। सयान मड़ई तौ सहन कइ लेत हवै, पै बच्चन का पियास से बुरा हाल रहत हवै।
यहिनतान हैण्डपम्प खराब होय के दूसर समस्या जिला चित्रकूट, ब्लाक पहाड़ी, बस अड्डा के हवै। हिंया के देषराज, कामता प्रसाद अउर अमन समेत लगभग सैकड़न मड़इन का कहब हवै कि पानी के बहुतै समस्या हवै। तीन महीना से हैण्डपम्प खराब हवै। सबसे ज्यादा आवै जाये वाला यात्री पानी खातिर हिंया हुंवा भटकत फिरत हवै। प्रधान कुछौ नहंी सोचत हवै।
या समस्या का लइके प्रधान बद्री प्रदास से बात कीनगे वहिकर कहब हवै कि अबै नये हैण्डपम्प नहीं लागत आय। जबै पास होइ तौ लगवा दीन जई।