पहले ब्लैकमेल, फिर बलात्कार और अब धमकी, चित्रकूट जिले की दर्दनाक कहानी

जिला चित्रकूट, कस्बा चित्रकूट मेहरियन के ऊपर होय वाली हिंसा रुके का नाम नहीं लेत आहीं। येत्ते नियम कानून बने के बादौ अपहरण अउर के मामला सउहें आवत हवै अउर यहिनतान के मामला सउहें आवा हवै जेहिमा लड़की के नदी नहायें मा आरोपी छोटू वहिके फोटो खींच के ब्लैकमेल कइके वहिके साथै बलात्कार करिस हवै। जबै लड़की गर्भवती होइ गे तौ समाज के डेर से 6 जून का आगी लगा के आत्महत्या करै के कोशिश करिस हवै। लड़की जिन्दगी अउर मउत के बीच जूझत जिला अस्पताल मा भर्ती हवै। इनतान के मामला मा हमेशा समाज लड़की का दोषी बतावत हवै।  लड़की का कहब हवै कि जबै मैं परेशान होइ गई रहिंव तबै समाज के डेर के कारन आत्महत्या करे के कोशिश करे हौं।   लड़की के महतारी अउर बाप का कहब हवै की हमें छह महीना तक या घटना के बारे मा पता नहीं  लाग आय। जबै लड़की आत्महत्या करिस हवै। तबै सब पता चला हवै।  लड़की के चाचा बताइस कि आरोपी बहुतै रुपिया वाला हवै।  यहै कारन वा हमें लगातार धमकी देत रहत हवै। हम कर्वी कोतवाली और एस.पी का दरखास दीने हन अस्पताल मा चोरी-चोरी रहित हन काहे से आरोपी हमें बार-बार धमकी देत हवै।  एस.पी प्रताप गोपेन्द्र का कहब हवै कि आरोपी छोटू उर्फ़ जीतेंद्र का पकड़ लीन गा हवै।  लड़की का बयान लइ लीन गा हवै पै अबै गुप्त बयान बाकी हवै। लड़की का मेडिकल कीन जात हवै अबै जांच चलत हवै। 2015 मा नेशनल क्राइम ब्यूरो के रिपोर्ट मा तीन हजार चार सौ इकसठ बलात्कार के मामला उत्तर प्रदेश मा दर्ज कीन गे हवै। जेहिमा जाने केत्ते बलात्कार के मामला दर्ज नहीं कीन जात आहीं।

रिपोर्टर- नाजनी रिजवी

22/06/2017 को प्रकाशित