पर्यवेक्षिका के मिललई प्रशिक्षण

tra
प्रशिक्षण लेईत पर्यवेक्षिका

जिला सीतामढ़ी, प्रखण्ड डुमरा कार्यालय में 19 मार्च 2014 से लेके 22 मार्च 2014 तक चार दिवसीय आंगनवाड़ी पर्यवेक्षिका के प्रशिक्षण देल गेलई। मुख्य रूप से कुपोषित बच्चा अउर गर्भवर्ती महिला, धात्री महिला के बारे में बतायल गेलई।
डुमरा अउर बैरगिनिया के बाल विकास पदाधिकारी चांदनी सिंह अउर बबीता कुमारी कहलथिन कि इ प्रशिक्षण सब पर्यवेक्षिका के चार दिवसीय पहिला बेर देल जाई छई। इ लोग सब अपना-अपना प्रखण्ड के सेविका सब के भी जानकारी देलथिन कि सब आंगनवाड़ी केन्द्र के सुचारू रूप से चलावे। ताकि कोई भी बच्चा लाभ से बंचित न रहे।
डॉक्टर सुपर्णा कुमारी कहलथिन कि घर-घर जाके बच्चा के सर्वे करनाई जरूरी हई कि कोन प्रखण्ड में केतना बच्चा कुपोषित अउर अकुपोषित हई। सब के अलग-अलग सुची बनतई। हर आंगनवाड़ी केन्द्र पर तीन महिना में दु बेर विशेष खाना या उपहार देवे के हई जेकरा लेल अलग से एक सौ पचास रूपईया मिलतई।
पटना के प्रशिक्षिका शिखा रानी कहलथिन कि जीवन के प्रथम हजार दिन कुपोषण बच्चा के विकास के देख-भाल दवाई समय-समय से आंगनवाड़ी केन्द्र पर उपलब्ध रहे के चाही। पर्यवेक्षिका निलम कुमारी गायत्रि कुमारी उपस्थित चैतिसो पर्यवेक्षिका कहलथिन कि हम सब हर सेन्टर पर जाके सब सेविका के जानकारी देवई। अभी त वोट में सब  के काम दे देले हई। वोट के बाद ही सब सेन्टर के निरिक्षण होतई।