परिवार वाले रहैं नहीं देत

 तहसील दिवस मा सविता देत दरखास
तहसील दिवस मा सविता देत दरखास

जिला बांदा, ब्लाक नरैनी, कस्बा नरैनी, मोहल्ला कम्पोटर पुरवा। हेंया के सविता का ससुराल वाले घर मा नहीं रहैं देत आय। या मारे सविता अउर वहिका मनसवा लालबाबू 2 जुलाई 2013 का नरैनी तहसील मा एस.पी. उदयशंकर जायसवाल का दरखास दइके नियाव के गोहार लगाइन हैं।

सविता बतावत है-“मोर ससुर चुनबादी, सास रामप्यारी, जेठ रामबाबू अउर जेठानी कमला सबै मिल के मारत हैं। मोर घर गिरा दिहिन हैं। अब मैं तीन बिटिया लइके कहां जाव। यहिसे एस.पी. का दरखास दइके आपन घर मा बंटवारा के मांग करत हौं। सास ससुर मोरे मनसवा लालबाबू से कहत  हैं कि तै यहिका न राख। काहे से यहिके बिटिया-बिटिया होत हैं। हम तोर दूसर शादी कई देबे। मोर मनसवा उनकर कहा नहीं मानिस तौ उंई हमका रहैं नहीं देत आय। यहिसे परेशान होइके हम दूनौ मेहरिया मनसवा तहसील दिवस मा दरखास दीन है।”
सास रामप्यारी का कहब है कि हम वहिका कुछौ नहीं कहत हन न घर से निकारत हन। झूठ का आरोप लगावत है अउर लड़का भी वहै के कहे मा चलत है। एस.पी. उदय शंकर जायसवाल उनका भरोसा दइके कहिन कि जांच करा के कारवाही कीन जई।