मिलिए साहसी जोखिमी पूर्वी गुप्ता से

फोटो:बेटर इंडिया

भोपाल में जन्मी पूर्वी गुप्ता भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान(आईआईटी) मद्रास की पूर्व छात्रा हैं। उन्हें पृथ्वी पर सबसे ठंडा, सबसे सूखा, सबसे ऊंचा, सबसे ऊंचा और उच्चतम महाद्वीप तक पहुँचने और यात्रायें करने का रोमांचक शौक है।
वह भारत की एकमात्र महिला हैं, जो 2018 में अंटार्कटिका में महिलाओं से जुड़े एक खास अभियान में हिस्सा ले रही हैं। यह अभियान महिलाओं के विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग, गणित और चिकित्सा जैसे क्षेत्रों में हिस्सा लेने और जागरूकता पैदा करने के लिए शुरू किया गया है।
पूर्वी गुप्ता इस अभियान के लिए 13 देशों की 80 महिलाओं की टीमों का हिस्सा है जो 2018 में अंटार्कटिका में तीन सप्ताह के लिए यात्रा पर होगा। पूर्वी भारत की पहली महिला हैं जो इस अनोखे और चुनौतीपूर्ण अभियान का हिस्सा बनने जा रही हैं।
वर्तमान में पूर्वी लंदन की मैककिंसे एंड कंपनी के लिए काम कर रही हैं। पूर्वी एक कुशल फोटोग्राफर भी हैं इसके लिए उन्होंने अपनी पहली तनख्वाह से ही एक बढ़िया कैमरा खरीदा था। सिर्फ यही नहीं उन्हें चित्रकारी करने का भी बेहद शौक है।
अपने बारे में पूर्वी कहती हैं किमेरे लिए  अंटार्कटिका जाना किसी सपने के सच होने जैसा है। मैंने अपने बचपन, पढ़ाई और काम के सिलसिले में कई जगहों को घुमा है और यह मेरे लिए अद्भुत अनुभव रहा है। इस अभियान द्वारा मैं लड़कियों के लिए नए मौंके तलाशना चाहती हूँ।