पत्रकार की गिरफ्तारी का मामला हुआ बहु-चर्चित

साभार: ट्विटर/प्रियंका

मुंबई पुलिस ने 26 दिसम्बर को स्वतंत्र पत्रकार प्रियंका बोरपुजारी को हिरासत में ले लिया है. प्रियंका अंग्रेजी अख़बार हिंदूके लिए काम करती हैं और वह अंतर्राष्ट्रीय महिला मीडिया फाउंडेशन की सदस्य भी हैं।
महिला पत्रकार प्रियंका बोरापुजारी ने आरोप लगाया है कि अनधिकृत मलिन बस्तियों पर चर्चा करते हुए उन पर मुंबई पुलिस द्वारा हमला किया गया। वहीं, पुलिस ने दावा किया है कि प्रियंका ने स्थानीय लोगों को कार्रवाई में बाधा डालकर भड़काने की कोशिश की है। इस मामले में, पुलिस ने प्रियंका समेत पांच लोगों के खिलाफ मामला दायर किया और उन्हें गिरफ्तार कर लिया।
नगर निगम ने मुंबई के कलिना में अनधिकृत मलिन बस्तियों के खिलाफ कार्रवाई की थी। यहाँ प्रियंका को देख कर पुलिस ने प्रियंका को भी गिरफ्तार कर लिया. पुलिस स्टेशन में पुलिस ने प्रियंका का मोबाइल फोन भी छीन लिया। प्रियंका ने यह भी कहा कि कार्रवाई के दौरान उनके साथी को पुलिस द्वारा पीटा गया था।
ऐसी स्तिथि में प्रियंका ने एक प्रसिद्ध अंग्रेजी अखबार के वरिष्ठ पत्रकार से संपर्क किया। संबंधित पत्रकार ने सोशल मीडिया पर मुंबई पुलिस द्वारा की गई इस घटना का जिक्र किया।
इसके बाद, मुंबई पुलिस ने घटना पर सफाई देते हुए कहा किक्योंकि पत्रकार का कोई मान्य पहचान पत्र नहीं था, इसलिए प्रियंका को पुलिस ने गिरफ्तार किया। उन्होंने बताया कि प्रियंका भीड़ को उकसा रही थी। इस मामले में, पुलिस ने प्रियंका सहित पांच लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।