पटना में शुरू हुआ अनोखा ऊर्जा कैफ़े

साभार: विकिमीडिया कॉमन्स

एनर्जी कैफ़े या ऊर्जा कैफ़े बिहार के ‘स्टेट पॉवर होल्डिंग’ के पटना ऑफिस द्वारा शुरू की गयी एक खास पहल है। यहाँ बैठकर आप चाय -काफी पी सकते हैं लेकिन यह इसलिए खास है, क्योंकि कैफ़े में जो फर्नीचर लगाये गए हैं, वह पुराने सामान को दोबारा इस्तेमाल करने की कला जिसे ‘रिसाइक्लिंग’ कहते हैं, का उपयोग है। यह सारे फर्नीचर बिजली विभाग के पुराने और खराब हो चुके सामान से बनाये गये हैं।
यहां पुराने ड्रम को काट कर बैठने के लिए कुर्सी बनायी गयी है। पुरानी मॉडल की कार से सोफा तैयार किया है। पुराने और खराब हो चुके बोर्ड और शीट्स से टेबल और कुर्सी बनाये गये हैं। खराब हो चुके सामान से यहां की दीवारों पर दिखावट की वस्तुएं भी लगायी गयी हैं। यहां पुरानी साइकिल का इस्तेमाल कर नेमप्लेट भी बनाया है।
पटना पॉवर हाउस के चीफ सिन्हा का कहना है कि इस एनर्जी कैफ़े का संदेश यह है कि किस तरह पुराने सामान से खास चीजें तैयार कर अपने इस्तेमाल में लाई जा सकती हैं। फिलहाल एनर्जी कैफ़े का एक भाग ही शुरू किया जा रहा है। एक हिस्से में करीब 40 लोगों के बैठने की व्यवस्था होगी और वहीं दूसरे भाग में 30 से 35 लोग बैठ सकेंगे।