न मिलई छई समय से खाद

जिला कृषि पदाधिकारी प्रवीण झा
जिला कृषि पदाधिकारी प्रवीण झा

जिला सीतामढ़ी, प्रखण्ड रीगा अउर सोनबरसा। उहां के किसान सब के कहना हई कि यूरिया खाद न मिल रहल हई। जेई कारण किसान सब काफी परेशान छथिन।
रीगा के विणा देवी, महेन्द्र राम, कुशमी देवी कहलथिन कि पैक्स द्वारा यूरिया खाद न मिल रहल हई। जेई कारण फसल बर्बाद हो रहल हई। हम सब बटाई खेती करई छी। दूर-दूर से खाद ला के पटबई छी। ओई से खेती में घाटा लग जाई छई।
सोनबरसा के किसान लालबाबू राय, राम प्रित महतो, किशोरी साह कहलथिन कि जब-जब धान या गेहूं में खाद डाले के होई छई तब-तब यूरिया खाद के कमी हो जाई छई। जहां चार सौ में खाद मिले के हई उहां छह सौ, आठ सौ में खाद खरीद के खेत में डालई छी। एक त किसान मौसम से मार खा जाई छई त दोसर खाद के कमी से किसान कहीं के न रह जाई छई।
रीगा के पैक्स अध्यक्ष अउर व्यावार मंडल के अध्यक्ष चंदेश्वर पूर्वे कहलथिन कि अभी तक कोनो पैक्स अध्यक्ष के खाद न मिलल हई। त हम सब किसान के कहां से खाद देबई?
जिला कृषि पदाधिकारी प्रवीण झा कहलथिन कि दोसर खाद के कमी न होई छई। जईसे ही कम्पनी से अबई छई हम भेज देई छी। यूरिया खाद के खपत ज्यादा होये के कारण यूरिया के कमी हो जाई छई।