नोबेल पुरस्कार की कुछ दिलचस्प कहानियां

11-12-14 Mano - Nobel James Watsonन्यू यार्क, अमेेरिका। मशहूर अमरीकी वैज्ञानिक और नोबेल पुरस्कार के विजेता जेम्ज़ वौट्सन पहले जीवित व्यक्ति हैं जिन्होंने अपने पुरस्कार की नीलामी की। इसे 4 दिसम्बर को रूस के व्यापारी उसमानोव ने चैबीस करोड़ रुपए में खरीदा।
इंसानी शरीर में पाए जाने वाले डी.एन.ए. पर काम करने के लिए वौट्सन को 1962 में यह अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार मिला था। वौट्सन का कहना है कि वह इस नीलामी के ज़रिए उन विश्वविद्यालयों के लिए पैसा बटोरना चाहते हैं जो विज्ञान में उनके काम से जुड़े क्षेत्र में काम कर रहे हैं।

भोपाल। हाल ही में भारत के कैलाश सत्यार्थी को नोबेल पुरस्कार दिया गया। तो वहां सत्यार्थी के अपने राज्य मध्य प्रदेश में कुछ दिन पहले हुए एक समारोह में कई भाजपा नेताओं ने गलत ‘कैलाश जी’ को सत्यार्थी समझ लिया।
राज्य के कई नेता यह समझ बैठे कि पुरस्कार कैलाश विजयवर्गीय (पूर्व मंत्री) को मिला है। भाजपा मंत्री ज्ञान सिंह ने कहा कि उनकी पार्टी से कई और लोग इस पुरस्कार के लायक हैं तो बसपा विधायक सत्यप्रकाश सखवार ने कहा कि कैलाश जी को यह अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार भाजपा ने ही दिलवाया।