नींक अस्पताल, सुविधा खस्ताहाल

समस्या बतावत गांव के मेहरिया
समस्या बतावत गांव के मेहरिया

जिला बांदा, ब्लाक नरैनी, गांव तेरा ब। हेंया लगभग दस साल पहिले प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र शासन कइत से लाखन रूपिया खर्च कइके बनवावा गा रहै। वा अस्पताल कबाड़ है अउर डाक्टर एन.ए.एम. भी नहीं आवत यहिसे गांव के मड़ई दवाई अउर डिलेवरी खातिर 10 किलोमीटर अतर्रा जात हैं।
गांव के नथिया बतावत है-“अगहन के महीना मा मैं अपने बहू सुशीला का डिलेवरी करावैं खातिर तीन सौ रूपिया मा गाड़ी बुक कइके अतर्रा लइके जात रहौं। तबै बहू के रास्ता मा बच्चा होइगा।” राम बाई अउर दुजिया कहत हैं कि गांव मा तौ सरकार करोड़न रूपिया अस्पताल के इमारत मा बरबाद करिस है, पै गांव के जनता खातिर कउनौ सुविधा निहाय। अपने अटके मड़ई रात बिरात एक-एक हजार रूपिया के गाड़ी कइके अतर्रा डिलेवरी करावैं जात हैं। अगर गांव के अस्पताल मा इं सुविधा मिलै लागै तौ हमरे गांव महुआ पथरा अउर दिवली तक के मड़इन का आराम होई जाय।
नरैनी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के हेल्थ सुपर वाइजर रामहित वर्मा कहत है कि तेरा ब अस्पताल मा द्रोपती गुप्ता ए.एन.एम. हैै। वा अस्पताल मा डाक्टर अरूण सिंह हैं। डाक्टर रोज जात है, पै गांव के मड़ई कब्जा करे है अउर डिलेवरी के सुविधा निहाय। तेरा ब अस्पताल का डाक्टर अरूण सिंह कहत है कि मैं तीन साल होइगे संविदा मा काम करत हौ रोज अस्पताल खुलत है, पै सरकार इमारत हैण्डओवर नहीं करत। हमरे बइठै खातिर ग्राम प्रधान एक कमरा दीने है अउर अस्पताल मा बिजली के व्यवस्था निहाय।