नियाव खातिर गांव मा ही अनशन

B badokhar mahila muddaजिला बांदा, ब्लाक महुआ, गांव बड़ोखर बुजुर्ग। हेंया शिवपुरी कुटिया मा रामा आपन मइके वालेन के साथै 14 अगस्त से धरना मा बइठ है। वहिके मांग है कि पुलिस जब तक ससुराल वालेन का गिरफतार न करी तबै तक अनशन जारी रही। बीस दिन बाद बिसण्डा पुलिस रपट लिखिस है।
रामा का कहब है“ मोर शादी 2012 मा बिसण्डा कस्बा के मनीष साथै भे रहै। मनीष का पूरा परिवार दारू पियत है। जेहिमा मनीष के महतारी श्यामा, ससुर संतोष,जेठ अवधेश अउर ननद ममता शामिल रहै। इं दारू के नशा मा होइके मारपीट करत हैं। अउर देहज मा एक लाख रूपिया नगद अउर मोटर साइकिल के मांगत हैं। जेठ कहत है कि अगर दहेज न लइहै तौ बदले मा मोहिका आपन पति बना ले। मोरे साथै जबरन करैं के कोशिश कई चुका है। एक महीना के लड़की है जब से लड़की भे तौ अउर मोहिका निकारैं मा लाग हैं। निकारैं खातिर सास ननद मंुह मा आपन पेशाब भर दिहिन। कहत हैं लड़की कहे पैदा करे हा। तीन चार दरकी जातिय पंचायत होई चुकी है। एक दरकी फांसी लगा दिहिन रहैं। जबै 14 अगस्त का मार के आगी लगाये देत रहैं। तबै बाप लिवा लावा तबै बची हौ।”
रामा के महतारी मिथलेश, भाई जंगबहादुर कहत हैं कि 28 अगस्त का विसण्डा से फोन आवा कि तुम्हार लड़की का मारे डालत हैं। रपट लिखावैं चाहत है तौ नहीं लिखी गे रहै। 8 सितंबर का बिसण्डा थाना प्रभारी बुलाइस है।
बिेसण्डा थानाध्यक्ष रामपाल कहत है कि ससुराल वालेन के खिलाफ दहेज उत्पीडन के धारा 498ए के तहत मुकदमा लिखा गा है। जांच चलत है। अबै धारा बढ़ सकत हैं।