निठारी कांड में टली फांसी की सज़ा

Desh Videsh - Surinder Koliनोएडा में बच्चों का यौन शोषण कर उनकी हत्या करने के मामले में सज़ा पाए सुरेंदर कोली को सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार 12 सितंबर को फांसी होनी थी। लेकिन सुरेंदर के वकील द्वारा इस मामले पर दोबारा विचार करने के लिए डाली गई याचिका के कारण फिलहाल उसे रोक दिया गया है। दूसरे आरोपी मोनिंदर सिंह पंढ़ेर को जमानत दे दी गई है।

क्या था मामला – दिल्ली से सटे नोएडा में एक गांव है निठारी। यहां पर दिसंबर 2006 में 17 बच्चों के साथ यौन शोषण और उनकी हत्याकर उन्हें टुकड़े-टुकड़े कर नाली में बहाने का मामला सामने आया था। इन बच्चों के कंकाल वहां के एक जाने माने स्थानीय मोनिंदर सिंह पंढेर नाम के एक व्यवसायी के घर में गड़े पाए गए थे। इस मामले में पंढेर और उसके नौकर सुरंदर कोली को हिरासत में लिया गया था। 12 फरवरी 2013 को गाजि़याबाद की स्थानीय अदालत ने दोनों को दोषी पाया था। लेकिन सी.बी.आई. जांच में मोनिंदर सिंह पंढेर की जगह उसके नौकर सुरेंदर कोली को मुख्य आरोपी बताया गया। पंढेर को सुरेंदर की मदद करने का आरोपी पाया गया।