ना गाँव में ना ज़िले में कहां मिलेगा रोज़गार, महोबा ज़िले के बम्होरी गाँव के मज़दूरों से सुनिए

जिला महोबा, ब्लाक जैतपुर, गांव बम्होरी के लोग मजदूरी के लिए यहां-वहां भटक रहें हैं।लोगों का कहना है कि गांव में रोजगार न मिलने के कारण हम लोग किराया भाड़ा लगाकर बाहर जातें हैं। जब बाहर भी काम नहीं मिलता है तो फिर से लौट कर वापस आ जाते हैं हमें कहीं काम नहीं मिलता तो कैसे अपना खर्चा चलायें और कब तक कर्जा लेकर अपने बच्चों का पेट भरेंगे। ऐसी सूखे के स्थिति में भी हमें मनरेगा का काम नहीं रहा है।
जिला विकास अधिकारी विनय कुमार त्रिपाठी का कहना है कि प्रधान काम नहीं देता ऐसी शिकायत तो नहीं आई है मनरेगा के काम कई जगह चल रहें हैं। मजदूर उसमें काम कर सकतें हैं सुरेन्द्र का कहना है कि बहुत दिनों से मजदूरी नहीं मिली है इस लिए हम महोबा में काम करने जाते हैं बीस रूपये आने में और बीस रूपये जाने में लगते हैं।
सुरेन्द्र कुमार का कहना है कि सब जगह सूखा पड़ा है तो कहीं काम नहीं मिलता है अपने गांव में काम मिलना चाहिए काम नहीं मिलेगा तो हम लोग क्या करेंगे। भवानी दीन ने बताया कि एक साल से कोई मनरेगा का काम नहीं हुआ है जिन लोगों ने पहले काम किया था उनको मजदूरी भी नहीं मिली हैं। प्रधान पति राजा जनक का कहना है कि मनरेगा का काम लोगों को मिलेगा लोग बताएं कि उनको कैसा काम करना हैं।
रिपोर्टर-श्यामकली

Published on Dec 19, 2017