नाली के पानी बाहर

जान के खतरा बनल नाली
जान के खतरा बनल नाली

जिला शिवहर, प्रखण्ड तरियनी, गांव घोरहा। इहां लगभग दु साल पहिले नाली बनलई लेकिन अभिये टूट के जरजर हो गेल हई।
इहां के मोहम्मद इसराइल, सयरा खातून, खैरून खातून कहलथिन कि इहां जहिया नाली बनलई तहिये लोग कहलथिन कि कमजोर बन रहल हई। पर पंचायत समिति न सुनलथिन। आई नतिजा इ हई कि नाली जगह-जगह फूट गेल हई। लोग जनलई कि अब सड़क पर पानी न रहतई लेकिन इ त पहिले से भी बतर हो गेलई। जगह-जगह पर फूट गेल हई जेईमे कुड़ा कचरा भर गेल हई। ओई में बच्चा सब के गोर फसे के भी डर हई।
पंचायत समिति जयनव खातून के पति मोहम्मद अमसूल कहलथिन कि इहां सड़क के कात में जमीन न देलथिन। ऐई के लेल सड़क के बीचों बीच नाली बनल हई। मनरेगा के तहत इ नाली बनलई। जेकर आधा रूपईया ही हमरा सब के मिल जेई कारण कमजोर नाली बन गेलई। मनरेगा के कार्यक्रम पदाधिकारी अजय सहाय कहलथिन कि मनरेगा से अभी कोई नाली न बनलईय।