नाम बदल कर लड़की को फंसाया, पोल खुलने पर पुलिस ने दबोचा

साभार: विकीमीडिया कॉमन्स

गोरखपुर में एक लड़का, नाबालिग लड़की को भगा कर ले जा रहा था। पुलिस को शक हुआ तो उन्होंने दोनों को रोक लिया। पुलिस ने पूछताछ की तो उसने लड़की को अपनी पत्नी बताया। लेकिन थोड़ी ही देर में उसका झूठ पकड़ा गया।दरअसल गोरखपुर के गुलरिहा थाना क्षेत्र के तरकुलहा गांव का रहने वाला अमीन उल हक, सोनू विश्वकर्मा बनकर एक लड़की से मोबाइल पर बातें करता था। वह चेन्नई में नौकरी करता था और उसने मोबाइल पर ही लड़की को प्रेम की बातों के जरिए फंसाया था।
उसने लड़की से चेन्नई चलने को कहा तो लड़की भी राजी हो गई। उसके साथ घर छोड़ कर फरार हो गई। लेकिन  पुलिस ने दोनों को रोक लिया और पहचान पूछी तो मामला खुल गया। इसके बाद तो लड़की के पैरों तले जमीन खिसक गई। लड़की को जब असलियत पता चला तो उसने रोते हुए बताया कि वो सोनू विश्वकर्मा बनकर उससे मोबाइल से बात करता था।
पुलिस ने इसकी सूचना लड़की के परिजनों को दी। जब लड़की की मां आई तो लड़की ने मां को आप-बीती सुनाई और मां का पैर पकड़कर रोने लगी। उसने कहा कि लड़के के ऊपर सख्त कारवाई की जाए। लड़की ने कहा कि मै नाबालिग हूं। मेरी उम्र 16 वर्ष है। जबकि युवक की उम्र 22 वर्ष है। फिलहाल पुलिस घटना की जांच में जुटी है।