नहीं भर पाइस सपना के उड़ान

taja (1) copyजिला बांदा, ब्लाक तिन्दवारी कस्बा तिन्दवारी। हेंया का पांचवीं पढ़ा 21 साल का रामचन्द्र उर्फ नारद आपन सपना सही करैं खातिर हेलीकाप्टर बनाइस। लगभग आठ फुट के उंचाई ढ़ाई सौ मीटर उड़ान भी भरिस। लोगन के बीच तमासा अउर चर्चा मा रहैं वाले रामचन्द्र का हौसला तब टूट गा जब पुलिस, मीडिया अउर होंआ के लोग कइयौतान के आरोप मढ़ दिहिन। पुलिस हेलीकाप्टर का तोड़वा दिहिस है।
रामचन्द्र उर्फ नारद का कहब है-“मैं प्राइमरी स्कूल मा पढ़ाई करेंव। पढ़ाई मा मन नहीं लागत रहै। मन मा कुछ अलग काम कई देखावैं का सपना रहै। यहै मारे मैं हेलीकाप्टर बनावैं का मन मा ठानेंव। काहे से मोहिका हेलीकाप्टर मा उड़ै अउर बइठैं का सपना रहै। हम जइसे लोगन का शायद या मौका न मिलत। यहैं सोच के साथ कि मैं अपने ही हेलीकाप्टर मा बइठिहौं। मैं अलग-अलग पुर्जा पार्टस कानपुर अउर बांदा से खरीद के लायेंव। नौ-नौ हजार के तीन पंखा खातिर तीन पत्ती बनवायेंव। पुरान मोटरसाइकिल का इंजन लगायेंव। लगभग चालिस हजार खर्च कइके पचीस दिन मा हेलीकाप्टर बना लीनेंव। सही से उड़ान भरी कि नहीं या जानैं खातिर मैं हेलीकाप्टर का खेत लई गयेंव। होंआ उड़ायेव। मैं जब उड़त रहौं तौ आपन सपना सही कई देखावैं का एहसास से मोर खुशी का ठिकाना न रहैं।”
जबै या बात के झनक पुलिस अउर मीडिया तक गे तौ धौंस धमकी का सिलसिला शुरू होइगा। पुलिस हेलीकाप्टर का तोड़वा दिहिस। मोरे ऊपर गलत काम करैं, आतंकवादी गुट से मिले होय, प्रधानमंत्री का मारैं जइसे के आरोप मढ़ दीन गें।
रामचन्द्र उर्फ नारद के साथी जितेन्द्र का कहब है कि या काम से रामचन्द्र उर्फ नारद के साथ-साथ हमार गांव जिला अउर देश का नाम होत। पुलिस हेलीकाप्टर तोड़वा के वहिके साथी का हौंसला गिरा दिहिस।
तिंदवारी थाना के मुंशी विमल पाण्डेय का कहब है कि अगर कउनौ दुघर्टना होई जाय तौ जिम्मेदार को होई। हेलीकाप्टर बनावब कउनौ खिलवाड़ न होय।