नहर के बंद होने से खेती का नुकसान, बाँदा जिले के बोधी का पुरवा में किसानों की नई समस्या#worldwaterday #savewater

जिला बांंदा, ब्लाक बड़ोखर खुर्द, गाँव बोधी का पुरवा हेंया त्रिवेणी पम्प कैनाल से पांच एकड़ खेत सींचे जात है पै पम्प कैनाल मा पम्प बदले जात है जेहिसे किसानन के खेती सूखी जात हवै।पै विभाग ध्यान नहीं देत हैं।
रामचरन बताइस कि हमार गेंहू के खेती सूखान जात हैं। अबैं सींच का टाइम है तौ विभाग वाले पम्प बदलावत है। पम्प बदलावै का काम उंई होली बाद कइ सकत रहै।ललन बताइस कि मोर पांच बीघा फसल बिना पानी के सूखी जात हैं।
अल्लादीन अउर दुष्यंत का कहब है कि होली तक पानी मिल जात तौ सबके खेत सींच जात। विभाग के आधिकारी कहत है कर्मचारी नहीं आय।जगत प्रसाद बताइस कि मोर 30-35 बीघा खेती सूखी जात है सरकारी कर्मचारी सुनत नहीं आय, प्राइवेट कर्मचारी दारू पिय पड़े रहत है।
सिंचाई कर्मचारी चुन्ना अउर बेलदार बद्रीनाथ का कहब है कि पम्प लीक होत रहै तौ उनका बदला जात है। एक घंटा का भी पानी बंद होइ जाये तौ किसान चिल्लाय लागत है।
सिंचाई विभाग के सहायक अभियंता मोईन उद्दीन का कहब है कि नई पाइप लाइन डाले का काम चलत है पम्प बीच मा दुइ तीन दिन का बन्द होइ जात है फेर चालू कीन जात है।

रिपोर्टर- गीता देवी

22/03/2017 को प्रकाशित