नदी सूखी, कुआं सुखा, सुख गये हैंडपंप, कैसे बुझेगी बुंदेलखंड के लोगों की प्यास

जिला चित्रकूट, ब्लाक पहाड़ी, गांव औदहा दलित बस्ती के 1800 आबादी मा एक हैण्डपम्प हवै। जेहिमा लम्बी लाइन लागत हवै। अउर छुआछूत का भेदभाव भी दलित मड़इन के परेशानी का कारन हवै।
माताबदल अउर रामराज का कहब हवै कि हमरे गांव मा पानी के बहुतै समस्या हवै यहै खातिर हियां पानी के व्यवस्था होय का चाही। पानी के समस्या खतम करै खातिर टैंकर आवत हवै तौ वहिमा छुआछूत घुस जात हवै।हमार दलितन का छुवा पानी कोउ नहीं पियत आय। यहै कारन टैंकर बड़ी जाति के मड़इन के लगे पहिले जात हवै जउन बचा कुचा पानी आवत हवै वा दलित इस्तेमाल करत हवै हमार गांव मा दुइ साल से पानी के समस्या हवै।
रामरती अउर का कहब हवै कि हमार बस्ती मा हैंडपम्प खराब हवै तौ हिंया-हुंवा से पानी लावे का पड़त हवै।एक दरकी पानी लावे का दुइ घंटा लागत हवै। कमला देवी बताइस कि मैं विगलांग हौं यहै कारन दूसर जघा से पानी नहीं ला पावत हौं मुहल्ला का हैंडपम्प ठीक रहत हवै, तौ भर लेत हौ, नहीं तौ मोर मनसवा दूसर जघा से पानी भर के लावत हवै।
ए.डी .ओ पंचायत भूपेंद्र तिवारी का कहब हवै कि अप्रैल मई मा इ गांवन के जलस्तर नीचे होइ जात हवै यहै कारन पानी नहीं आवत आय। यहिके खातिर टैंकर के व्यवस्था कीन जात हवै।
यहिनतान पहाड़ी ब्लाक के बकटा बुजुर्ग गांव मा भी पानी के समस्या हवैं।हिंया के दलित बस्ती अउर मुस्लिम पुरवा के मड़ई दुइ किलोमीटर दूरी से पानी भर के लावत हवै। नदी अउर कुआं सब सूख पड़े हवै।
हैण्डपम्प भी जनवरी से कम पानी देत हवै। प्रशासन हिंया पानी के टैंकर भेजिस हवै। पै या लम्बे समय तक पानी के समस्या का हल न होय।
छोटा अउर श्री राम का कहब हवै कि जनवरी फरवरी से हैण्डपम्प मा भी पानी नहीं आवत आय।
हमार गांव मा 2025 साल से पानी के समस्या हवैं।जउन मड़ई घर के भीतर आपन निजी नल लगवाये हवै तौ उनका पानी खातिर आराम हवै।दुइ सरकारी हैण्डपम्प हवैं जउन एक स्कूल मा दूसर पुरवा मा हवै।
बेलवतिया बताइस कि पुरवा से पानी लाइत हन जेहिमा एक घंटा लागत हवै पानी के समस्या दूर करै खातिर कउनौ सरकार साथ नहीं देत आय।
पूर्व प्रधान सरस चन्द्र निषाद का कहब हवै कि गेडुवां नदी अउर तीन तालाब सब सूख पड़े हवै डी.एम अउर ब्लाक मा कइयौ दरकी दरखास दीने हन। पै कुछौ सुनवाई नहीं होत आय।

रिपोर्टर- नाजनी रिजवी और सहोद्रा

25/04/2017 को प्रकाशित