नई मिलत मजदूरी को रुपइया

taja khabar  copyजिला महोबा, ब्लाक जैतपुर, गांव बम्हौरी खुर्द। एते के आदमियन ने दो महीना पेहले मनरेगा के तहत नाला खुदाई ओर तलइया खोदाई को काम करो हतो। जीखो रुपइया आत तक नई मिलो हे। मजदूरो को रुपइया पायें के लाने विभागन के चक्कर लगाउत हे।
विद्यादेवी, लाड़कुवर ओर कपूरी देवी कहत हे की हमने दो महीना पेहले मनरेगा के तहत तीस दिन तलइया खोदाई ओर नाला मे काम करो हतो। जीखो रुपइया आज तक नई मिलो हे। हम मजदूरी के साहारे रहत हे। ओई नई समय से मिलत हे। हम अपने परिवार खा का खबा देहे। सूखा के कारन आनाज सोने के भाव बिकात हे। किते से खरीदहें जभे रुपइया न मिलहे।
रावेन्द्र ओर गोमती कहत हे की हम गरीब मजदूर आदमी एक-एक रुपइया खा तरसत हे। हम पास बुक लेके बैंक जात हे तो ओते के कर्मचारी दपका के भगा देत हे। कहत हे की हमें परेशान करन आ जात हे। रुपइया न मिले के कारन बच्चन के स्कूल की फीस नई भर पाउत हे। जीसे मास्टर स्कूल से भगा देत हे। मजदूरी न मिले के कारन हमाओ परिवार भुखमरी के कगार में आ गओ हे।
सचीव पी.डी. सेन कहत हे की ब्लाक मे कम्प्यूटर मे काम करे वाले कम हे। हम अपने केती से तुरतई रुपइया भेज देत हे। बी.डी.ओ. एस.के. सिंह कहत हे की मोये ईखे बारे मे कोनऊ जानकारी नइयां। नई तो अभे तक रुपइया भेजवा दओ जातो। आदमियन खा मजदूरी को रुपइया पन्द्रह दिन मे मिल जाये खा चाही।