नई मिलत आवास, झोपड़ी में करत गुजारा

15-07-15 Jaitpur - No Awaas webजिला महोबा, ब्लाक जैतपुर, गांव सिरमौन मजरा बम्हौरी खुर्द। ई गांव में दस दलित ओर आदिवासी मकान हे। आदमियन को आरोप हे कि प्रधान आवास नई देत हे। जीसे पन्नी छाके परिवार पालत हे।

विजय ओर गौरीशंकर कहत हे कि हम आपन परिवार पन्नी की झोपड़ी डार के रहत हे। प्रधान से तीन साल से कहत हे कि हमें आवास दे दे, तो ऊ तीन साल ये एई कहत हे अभे आवास नई आये हे। जभे आहे तो तुम्हे दओ जेहे। रामदेवी ओर जयदेवी बताउत हे कि हमें एते रहत एक पीढ़ी बीत गये। सरकारी आवास से बिल्कुल जीरो हे। हम झाड़ू बना के आपन परिवार चलाउत हे। ईखे आवाला कछू धन्ध नई कर पाउत हे। हम रोज के कमाये खायें वाले आदमी हे। जीखे जमीन ओई खा प्रधन आवास देत हे। हमाई कोनऊ नई सुनत हे।

प्रधान हरिदास बताउत हे कि 2014-15 में छह आवास आये हे। जीखे नाम बी.पी.एल. सूची में हे ओई खा आवास दये हे। आदिवासी के आदमियन को नाम बी.पी.एल. सूची में नइयां।