धाकड़ पिक्चर!

शुक्रवार को सिनेमा घर में लग चुकी आमिर खान की बहुचर्चित फिल्म दंगल महिला पहलवानों गीता और बबिता फोगट की कहानी है। कैसे उनके पिता, महावीर सिंह, एक पहलवान, ने उन दोनों को पहलवानी सिखाई, और कैसे दोनों बेटियां आगे बढ़ती गयी, ख़ास कर के गीता।
महिलाओं के सशक्तिकरण और कुश्ती के दांव पेंच को बहुत सुन्दरता से दर्शाया है, मशहूर गीतकार प्रसून जोशी ने फिल्म देखने के बाद कहा कि दंगल के लिए आमिर खान, दोनों लड़कियों और नितेश तिवारी (निर्देशक) के काम को वो सलाम करतें हैं।
आमिर का फिल्म में काम प्रभावित बताया गया है और गीता और बबिता के किरदारों को अदा करने वाली अभिनेत्रियाँ, फ़ातिमा सना शेख़ (गीता) और सान्या मल्होत्रा (बबिता) जिनकी ये पहली फिल्म है, उनको भी अब तक बहुत वाह-वाही मिली है।
फिल्म का म्यूजिक, जो प्रीतम ने रचा है, पहले ही प्रसिद्धि प्राप्त कर चूका है। हानिकारक बापू, और धाकड़ जैसे गीत तो अब सब के मूह चढ़ा हुआ है। अब बस फिल्म हॉल में जाने की बारी है। और यूपी में तो फिल्म को अखिलेश यादव की सरकार ने कर मुक्त कर दिया है!