देखें गोरक्षा के पीछे का सच, मोदी जी के वाराणसी से

गोरक्षा के नाम से रोजगार प्रभावित हुआ है और लोगों को जान से हाथ भी धोना पड़ा है, किन्तु फिर भी गौ की रक्षा नहीं हो रही हैं। वाराणसी के पांडेयपुर पंचकोशी भोजूबीर में सड़क में घूमती गायें गौरक्षा की कुछ और ही तस्वीर दिखा रही है।ऑटो चालक समीर का कहना है कि गाय सड़क में घूमती रहती है तो एक्सीडेंटहोने का खतरा बना रहता है। ये अन्ना गाय किसानों की फसल भी बर्बाद करती हैं। आशीष कुमार गुप्ता का कहना है कि हमारी दुकान का सामान गाय खा जाती है तो भगाना पड़ता है। भगो देवी का कहना है कि गाय को चाहे जो मारे भूख लगेगी तो खायेगी ही इधर-उधर से। रास्ते में गाय घुमती है तो लोगों को चोट भी लग जाती है। विजय विश्वकर्मा का कहना है कि सब जगह मकान बने है तो कहाँ जायेगी गाय। सब यही रहती हैं।
मवेशी खाना सहायक अधिकारी आशीष कुमार का कहना है कि यहां इस समय लगभग अस्सी गाय हैं। गाय को खरी भूसा खानें को दिया जाता है, इनको रखने की अच्छी व्यवस्था है।

रिपोर्टर- सुशीला 

published on Mar 16, 2018