दूसर किस्त बिना अधूरी परी हैं कालोनी

kaloni khabar atara taza pezजिला बांदा, नरैनी ब्लाक, अतर्रा ग्रामीण का मजरा विश्वनाथ का पुरवा। हेंया के लोगन का आरोप है कि उनके नाम के 2015 मा इन्दरा आवास आय रहै। तबै कलोनी नवंबर 2015 मा बनी हैं। अब उनके दूसर किस्त का रुपिया नहीं मिलत आय। यहिसे कालोनी अधूरी परी हैं। या समस्या उंई कइयौ दरकी प्रधान से कही चुके हंै, पै न दूसर किस्त का रूपिया मिला न कालोनी पूर होत आय।
शिवकांती, नत्थू अउर जागेश्वर का कहब है कि नवंबर 2015 के आय आवास एक किस्त बिना आज तक अधूरे हैं। पहिली किस्त पैंतिस हजार रूपिया के हमरे बैंक खाता मा आई रहै। जेहिका निकाल के कालोनी का छत के लेंटर तक तैयार कइ दीन हैं। कालोनी के फोटो ख्ंिाचवा के नियम के हिसाब से प्रधान ब्लाक मा जमा करवा दिहिस रहै। दूसर किस्त का इंतजार करत साल 2015 भी बीत गा है। सोचत रहेन कि कालोनी के छत पड़ जई तौ रहैं का नीक होई जई।
प्रधान का कहब है कि कालोनी के दूसर किस्त लें खातिर फोटो खींच के फोटो कापी लगा के ब्लाक मा जमा कइके डिमान्ड फीड करवा दीने रहौं। दूसर किस्त का रुपिया मिली। नरैनी ब्लाक के बाबू का कहब है कि 2014-15 मा 1810 कालोनी आई रहैं पूरे ब्लाक खातिर जेहिमा से 1400 पूर होइ गई हैं। 400 के दूसर किस्त बांकी है। जिनके फिडिंग होत है। 2015-16 मा 452 कालोनी आई हैं। जेहिमा से 352 के दूसर किस्त देब बांकी है।