दूसर अधिकारी से जांच के मांग

प्रधान राजाराम का घर
प्रधान राजाराम का घर

जिला बांदा। या समय ग्राम पंचायतन के कामन के जांच चलत है। जांच कतौ तौ सही है अउर कतौ के मड़ई इं जांचन का गलत बतावत हैं। दुबारा से जांच के मांग करत है।

जिला के ब्लाक नरैनी का ग्राम पंचायत रगौली भटपुरा। हेंया लघु सिंचाई विभाग का अधिकारी 24 मई 2013 का जांच करिस। प्रधान राजाराम बताइस-“जांच अधिकारी राज वित्त अउर मनरेगा के तहत 2010 मा कीन गे काम के जांच करिन। 13वां वित्त के तहत कीन गे कामन का भी देखिस। अधिकारी या जांच मा प्रधान के तरे लगभग आठ लाख रूपिया का घपला बताइस है जउन कि यह बिल्कुल गलत है। या जांच से मैं संतुष्ट नहीं आहूं। हेंया के जांच का दुबारा से कराई जाय। गांव के सुन्दर लाल, प्यारे, कोटेदार कामता प्रसाद अउर वहिकर भतीज रोजगार सेवक श्याम बिहारी इं सबै मिलके मोहिसे दस हजार रूपिया का महीना कमीशन मांगत है। न दें मा यहिनतान के जांच के धमकी देत है।”

गांव के कइयौ मड़ई या बात कहिन कि प्रधान के घोटाला के बात नहीं मानिन हैं। उनकर कहब रहै कि प्रधान के घपला के बात गलत है। पूर्व सचिव स्वतंत्र सिंह अउर पूर्व जेई शिवशरण बताइस कि जउन कामन के जांच नहीं कीन गे उंई सबै 2010 के हैं। वा समय के बनी मोरम के सड़कन का देखा गा है। दुई साल तौ बारिस हो चुकी वहिके बालू बहि गे और कुछ उड़ गई होई। हर काम के जांच भे है, मस्टर रोल भी है तौ काम मा घपला काहे का? या जांच गलत भे है।
नरैनी बी.डी.ओ. किशुन लाल सोनकर का कहब है कि यह जांच विरोधी पार्टी के मड़ई के कहैं के हिसाब से कीन गे है। प्रधान दलित जाति का अउर अनपढ़ है। वहिकर काम बहुतै नींक है। मैं भी काम का देखा है। कोटेदार से कुछ लड़ाई भे है। कोटेदार का भतीज श्याम बिहारी रोजगार सेवक है। इं लोग प्रधान के खिलाफ कुछ न कुछ करतै रहत हैं। होंआ के जांच गलत भे है। जांच दुबारा से अउर दुसरे अधिकारी से कराई जाय।