दूषित पानी, और सरकारी टैंकर का इंतज़ार, ये है चित्रकूट जिले के पथरामानी गांव की कहानी

जिला चित्रकूट, ब्लाक पहाड़ी, गांव पथरामानी जबै से या गांव बसा हवै तबैसे हिंया पानी के समस्या हवै। काहे से हिंया के हैण्डपम्प अउर तालाब से खारा अउर गंदा पानी निकलत हवै। सरकारी टैंकर भी रोज नहीं आवत आय। टैंकर आवै मा मड़इन का बहुतै मुश्किल से पानी मिल पावत हवै। जिला चित्रकूट, ब्लाक पहाड़ी, गांव पथरामानी जबै से या गांव बसा हवै तबैसे हिंया पानी के समस्या हवै। काहे से हिंया के हैण्डपम्प अउर तालाब से खारा अउर गंदा पानी निकलत हवै। सरकारी टैंकर भी रोज नहीं आवत आय। टैंकर आवै मा मड़इन का बहुतै मुश्किल से पानी मिल पावत हवै।  राम राजा यादव का कहब हवै कि जबै से गांव बसा हवै तबै से हमें पानी के समस्या हवैं। गांव के मड़ई अउर जानवर तालाब का गंदा पानी पिये का मजबूर हवै। गंदा पानी पिये से जानवर का पेट खराब होइ जात हवै अउर मड़ई भी बीमार पड़ जात हवै। तालाब का पानी नहायै से शरीर मा खुजली होइ जात हवै। चार पांच दिन मा एक बार टैंकर आवत हवै जेहिमा छह डिब्बा पानी बस मिलत हवै।  कामता प्रसाद, राम प्रसाद अउर राम बरन बताइन कि एक किलोमीटर दूरी से पानी लाइत हवै अउर नोनार गांव के कुआं से पानी लाइत हवै। गांव मा पानी न होय के कारन कुछौ अनाज पैदा नहीं होत आय। गांव के जनसंख्या दुइ हजार हवै। कइयौ दरकी पानी के समस्या के दरखास भी दीन गे हवै। चुनाव  बहिष्कार भी कीन गा रहै। तबै डी. एम एक महीना के भीतर ट्यूवबेल के व्यवस्था करे का कहिन रहै पै, छह महीना होय के बाद भी हमार गांव मा ट्यूवबेल नहीं लाग आय। ए.डी. ओ. भूपेन्द्र तिवारी का कहब हवै कि तालाब भरे का आदेश दीन गा हवै। पानी के ज्यादा समस्या होई तौ एक अउर टैंकर लगवा दीन जई।  सांसद प्रतिनिधि सुशील चतुर्वेदी का कहब हवै कि शादी बियाह मा गांव  के मड़ई बाहर से पानी मंगवाइन होइहैं। पानी के समस्या खातिर डी. एम. से बात कीन जई। येत्ती गम्भीर पानी के समस्या के कउनौ खबर शासन प्रशासन का नहीं आय। अधिकारी सोवत रहत हवै ।

रिपोर्टर- सहोद्रा

12/06/2017 को प्रकाशित