दाभोलकर हत्याकांड में सनातन संस्था के वीरेंद्र तावड़े गिरफ्तार

dabholkar_B_120815 copyसामाजिक कार्यकर्ता डॉ. नरेन्द्र दाभोलकर हत्याकांड की जांच में जुटी सीबीआई ने तीन साल बाद इस मामले में पहली गिरफ्तारी की है। सीबीआई ने सनातन संस्था से जुड़े वीरेंद्र तावड़े को मुंबई से सटे पनवेल इलाके से गिरफ्तार किया। गिरफ्तारी के बाद शनिवार को तावड़े को पुणे की अदालत में पेश किया गया।
रिमांड के बाद सीबीआई के वकील बीपी राजू ने कहा मामला अभी बेहद अहम मोड़ पर है, इसलिए हम ज्यादा कुछ नहीं बता सकते। सबूत के तौर पर कुछ ईमेल हैं इसलिए उन्हें गिरफ्तार किया गया है। हमें 16 तारीख तक रिमांड मिली है। वहीं नरेन्द्र दाभोलकर के बेटे हामिद ने कहा सीबीआई ने कहा कि उन्हें शक है कि तावड़े हत्या के तीनों मामलों में शामिल है। वो उससे पूरी पूछताछ करना चाहते हैं। सीबीआई ने 7 दिनों की रिमांड मांगी थी उन्हें 6 दिन मिले हैं। मुझे लगता है इससे सीबीआई को आगे की जांच में मदद मिलेगी।
सूत्रों के अनुसार, डॉ. वीरेन्द्र तावड़े ईमेल के जरिये 2009 गोवा धमाकों के आरोपी सारंग अकोलकर के संपर्क में था। अकोलकर कई सालों से फरार है, उसके खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी हो चुका है।
वहीं कोर्ट में ईएनटी सर्जन डॉ. तावड़े ने आरोप लगाया कि सीबीआई के अफसरों ने पूछताछ के दौरान उनके साथ मारपीट की। कोर्ट में सीबीआई ने कहा कि डॉ. तावड़े 2004 में एक सार्वजनिक सभा में डॉ. दाभोलकर के खिलाफ बोले थे, उसके बाद कई मौकों पर उन्होंने दाभोलकर का विरोध किया। एजेंसी का ये भी आरोप है कि हत्या में शामिल काली होंडा मोटर साइकिल जैसी बाइक डॉ. तावड़े के पास भी है।
सीबीआई ने डॉ. तावड़े के घर से छापेमारी में कई दस्तावेजों, मोबाइल फोन के मिलने का भी दावा किया है। 20 अगस्त 2013 को दो अज्ञात लोगों ने टहलने के दौरान डॉ. दाभोलकर की ओंकारेश्वर पुल के पास गोली मारकर हत्या कर दी थी जिसके बाद से यह पहली गिरफ्तारी है। 2014 में हाईकोर्ट की दखल के बाद मामला पुलिस से लेकर सीबीआई को सौंप दिया गया था।