दहेज वापस करैं का लगाइस मुकदमा

court caseजिला बांदा, ब्लाक महुआ, गांव स्योढ़ा। हेंया के नूरबानो के शादी 2004 मा महोबा जिला के मोहल्ला सैकू नगर मा रहैं वाले हबीब साथै भे रहै। अब मनसवा दूसर शादी कई लिहिस है। यहिसे वा दहेज वापसी ले का मुकदमा लड़त है।
नूरबानो कहिस मोरे तीन बच्चा हैं। मैं बीमार रहत हौं। मनसवा दवाई नहीं करावत रहै। दहेज मा एक मोटर साइकिल अउर पचास हजार रूपिया के मांग करत रहै। कहत रहै कि अगर दहेज न मिली तौ मैं न रखिहौं। मइके मा गरीबी हालत होय से अब वा मोहिका नहीं राखत आय। दूसर शादी कई लिहिस है। यहिसे मैं दहेज वापस लें का मुकदमा लगाये हौं।
मनसवा हबीब कहत है वा मोहिका एक साल पहिले तलाक दई दिहिस है। तबै मैं दूसर शादी कीने हौं। दहेज के कउनौ मांग नहीं रही आय। मैं अबै भी रखैं का तैयार हौं ।