दहेज के कारन लगा दई आगी

अपनी नानी के साथे महिमा
अपनी नानी के साथे महिमा

महोबा शहर, बजरिया, सिंचाई विभाग कालोनी। एते की 35 वर्षीया हरिता के ब्यान के अनुसार ऊखे ससुराल वालेन ने दहेज खे लाने 28 अक्टूबर 2014 खा लगभग शाम 5 बजे मिट्टी को तेल डार के आगी लगा दई हे। जीसे ऊखी मोत 30 अक्टूबर खा झांसी अस्पताल में हो गई हे। ई बयान हरिता ने 28 अक्टूबर खा दये हें। ईखी रिपोर्ट हरिता के मताई-बाप ने महोबा कोतवाली में लिखाई हे।
हरिता की मताई सहोद्रा बताउत हे कि हमने हरिता की शादी 2000 में महोबा शहर बजरिया के सुशील दुबे के साथे करी हती। दहेज में हमने अपने हैंसियत से ज्यादा दहेज दओ हतो, पे हरिता की सास हल्की आदमी सुशीला ओर देवर अरविन्द हमेंशा हरिता के साथे दहेज कम मिले खा लेके मारपीट करत हते। एई बात खा लेके चार साल पेहले अदालत में दहेज प्रथा को मुकदमा भी लगाओ हतो। ईखे बाद सुशील राजीनामा करके हरिता खा लिवा गओ हतो। हरिता की दस साल की लड़की महिमा बताउत हे कि मोई मताई खा सात-आठ दिन से मोये पापा सुशील ओर दादी हल्की ने खाना नई दओ हतो। 28 अक्टूबर खा में पढ़ खे आई तो मोई मताई खा पापा ओर दादी मिट्टी को तेल डार के आगी लगाउत हते।
महोबा कोतवाली प्रभारी श्रीप्रकाश राय बताउत हंे कि धारा 302 (हत्या) के तहत मुकदमा लिख के सुशील ओर हल्की खा 4 नवम्बर 2014 खा जेल भेजा दओ हे।