दस जानवरन की मोत

m panvadi  taja khabar photoजिला महोबा, ब्लाक पनवाड़ी, कस्बा पनवाड़ी। एते पीढ़ीयन को तालाब बनो हे। बारिस न होंय के कारन बूंद-बूंद पानी खा भटकत हे। तीन महीना सें तालाब को गन्दो पानी पियें से दस जानवरन की मोत हो गई हे।
योगेन्द्र कहत हे की 25 साल पेहले एई तालाब में आदमी नहात हतो ओर निस्तार भी करत हतो, पे रोज-रोज सूखा ने तालाब आदमी ओर जानवरन रोबा दओ हे। पन्द्रह साल से तालाब की सफाई नई भई आदमी ओई में गोबर कूड़ा डारत हे। तीन साल पेहले कुलपहाड़ तहसील में दरखास दई हती। सचिव ने गोबर ओर घूरो हटवा दओ हतो। आदमी फिर जारन लगो हे। जीसे तालाब को पानी गन्दों हो गओ हे।
देवकुंवर ओर फूलकुंवर कहत हे ई साल सूखा के कारन खाना ओर पानी नई मिलत हे। आदमी आपने जानवर भी छोड़ दये हे। ई तालाब को गन्दा पानी पियें से तीन महीना में लगभग दस जानवरन की मोत हो गई हे। एई से हम तालाब की सफाई की मांग करत हे। कुलपहाड़ एस.डी.एम. मोहम्मद रिजवान कहत हे की एसी कोनऊ जानकारी नई मिली हे की तालाब को पानी पियें से जानवरन की मोत हो गई हे। जानकारी होती तो जरूर कछू करो जातो।