दस्तावेज़ पूरे, राशन कार्ड फिर भी अधूरे देखिये छतरपुर जिले के मातगुवाँ गाँव की कहानी

छतरपुर जिले के गांव में लोगों के पास राशनकार्ड न होने से उन्हें काफी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। सारे दस्तावेज होने के बावजूद भी लोगों के राशनकार्ड नहीं बन रहे हैं, जिससे लोग कई जरूरी कार्यो को करवाने से वंचित रह जाते हैं।
नीता का कहना है कि पहले तो राशनकार्ड में तेल मिल जाता था, जब से कमल जीता है तब से तेल भी नहीं मिलता है। घस्सी का कहना है कि तेल मिलता है न अनाज। पैसे भी लग गये है लेकिन राशनकार्ड नहीं बन रहा है। कलेक्टर साहब से कहते है तो सिक्रेटरी और सरपंच से दसखत कराने को कहते हैं। मत्थी बाई ने बताया कि हम मजदूरी करके खाते हैं।
रोजगार सहायक किशोरी लाल अहिरवार कहना है कि पटवारी के पास लिस्ट भेज दी है।
तहसीलदार और एसडीएम ने यह कहकर बात करने से मना कर दिया है कि यह हमारा काम नहीं है।  

रिपोर्टर- नसरीन  

Published on Apr 10, 2018