दवाइन मा गोली भर मिलैं

दवाई होत हैं, पै दवाई दें मा कमी
दवाई होत हैं, पै दवाई दें मा कमी

जिला बांदा, ब्लाक नरैनी, गांव डढवामानपुर का मजरा फतेहगंज। हेंया के नवीन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मा गोली के अलावा सीरप नहीं दीन जात आय। कइयौ दरकी कहा है कि सीरप, इजेक्शन और मरहम पट्टी के मांग कीन, पै उंई नहीं सुनत आय।
गांव का मूलचन्द्र अउर रमेशचन्द्र कइयौ मड़ई बताइन कि हमका जुखाम बुखार के बीमारी है। नवीन स्वास्थ्य केन्द्र का डाक्टर नागेन्द्र हमका गोली सब दिहिस है, पै सीरफ नहीं दिहिस आय। अगर इंजेक्शन लगावत है तौ बीस रूपिया लेत है। डाक्टर के परचित का कउनौ होत है तौ उनका सीरप गोली इंजेक्शन देत हैं। हमार दवाई नींक से नहीं करत आय यहिसे जुकाम बुखार नहीं पटात आय, तौ उनका प्राइवेट अस्पताल मा दवाई करावै का परा है।
डाक्टर नागेन्द्र शुक्ला का कहब है कि एक रूपिया का पर्चा मिलत है। दवाई बीमारी के हिसाब से दीन जात है। अबै सीरफ नहीं रहे आय।