तेज़ाब के हमले ने और मजबूत किया रेशमा कुरैशी को

14316706_1172905082766272_5794284507356461484_nतेजाब हमले के कारण झुलसी भारतीय युवती रेशमा कुरैशी ने न्यूयॉर्क फैशन वीक के दौरान रैंप पर चलकर मॉडलिंग की। इस रैंप वॉक पर मॉडलिंग के साथ रेशमा ने सारी दुनिया को संदेश दिया कि ‘खूबसूरती का संबंध सिर्फ त्वचा से नहीं होता है।’ रेशमा के इस संदेश ने लोगों का दिल जीत लिया।
एफटीएल मोडा आयोजित फैशन वीक में हिस्सा लेने के लिए 19 साल की रेशमा कुरैशी को आमंत्रित किया गया था, जिनका चेहरा तेजाब हमले में बुरी तरह झुलस गया था।
न्यूयॉर्क फैशन वीक में जब रेशमा कुरैशी रैंप पर उतरीं तो सिर्फ तालियों की गूंज सुनाई दे रही थी। रेशमा इससे पहले भी कई कार्यक्रमों में हिस्सा ले चुकी हैं लेकिन ये पहला मौका था जब वो अंतरराष्ट्रीय मंच पर थीं।
रेशमा एक एसिड अटैक सर्वाइवर हैं, तेज़ाब के हमले ने उनके चेहरे को जला दिया लेकिन उनके हौसले को और बुलंद किया। जिस चेहरे को जलाकर उनकी पहचान को दाग बनाने की कोशिश की गई थी, अब वही चेहरा उनके साहस की कहानी बयान करता है। 2014 में रेशमा के चेहरे पर एसिड उसके जीजा ने और उनके दोस्तों ने ही फेंका था।