महिला अधिकारों को लेकर शुरू हुई नयी राजनीती इस बार हथियार बना तीन तलाक

जिला बांदा, कस्बा बांदा आज कल उत्तर प्रदेश के सरकार मेहरियन के अधिकार का लइके तीन तलाक जइसे मुददा का आपन राजनीतिक हथियार बनाइस है।पै जल्द बाजी मा 2011 के तीन तलाक के जनगणना के बारे मा भूल गे है जेहिमा 0.56 मामला बस आय है।
योगी के सरकार कहत है कि तीन तलाक के मामला मा चुप रहब येत्ता बड़ा जुर्म आय जेत्ता बड़ा दौपदी के चीर हरण का देख के चुप रहब आय। प्रधानमंत्री मुसलमान मेहरियन का तीन तलाक से आजादी देवावै के बात कहत है।
हिन्दू समाज वाले तौ तीन तलाक का हवन तक कइ डालिन है अउर दुइ मुसलमान मेहरियन का नियाब पावै खातिर हिन्दू धर्म का अपनावै के बात कहत है तीन तलाक के अलावा मुसलमान मेहरियन, के शिक्षा अउर रोजगार जइसे समस्या है।पै सरकार इं समस्या के ऊपर ध्यान नहीं देत आय।
भवई गांव के गुड़िया का कहब है कि मोर मनसवा मोर नाक काट लिहिस है गरम तेल से मोहिका जला दिहिस है पै मैं अबै भी नियाव खातिर भटकत हौं। बांदा के 20 साल के आशिया के दुइ महीना पहिले शादी भे रहै पै अब वा अपने मइके मा रहत है ससुराल वालेन के ऊपर दहेज का मुकदमा चलत है।

अशिया बताइस है कि ससुराल वाले मोहिका दिन भर काम करावत रहै, जबै सब कोउ खा लेत रहै तबै शाम के 5 बजे मोहिका खाना देत रहै। मैं चाहत हौ ससुराल वालेन का सजा मिले।पैलानी थाना के कछार डेरा गांव के संगीता का 13 अप्रैल का मार डाला गा है।वहिकर भाई राममोहन कहत है कि दहेज के कारन मोर बहिनी का ससुराल वाले मार डालिन है मैं चाहत हौं सी, बी, जांच कीन जाय।
पिपरौंद के रामदुलारी छुआछूत से परेशान है वा कहत है कि मड़ई हमें अउर बच्चन दूरी से समान देत है दुकानदार पेप्सी के बोतल धोवे का कहत है हम चाहित हन या छुआछूत खतम होइ जाए।

रिपोर्ट- खबर लहरिया ब्यूरो

24/04/2017 को प्रकाशित