तीन किलोमीटर स्कूल कसत जइहैं

agrhuda-gav copyजिला चित्रकूट, ब्लाक मानिकपुर, गांव अगरहुंड़ा का अड़गम बाबा पुरवा। हिंया के मड़ई कहिन कि वा पुरवा मा प्राथमिक स्कूल नहीं आय। बच्चन का पढ़ै खातिर लगभग तीन किलो मीटर दूर अगरहुंड़ा गांव सड़क पार कइके जाये का परत हवैं।
पुरवा के मोहन, चुन्नी देवी अउर गोलिन का कहब हवै कि हमार छोट-छोट बच्चा स्कूल दूर होय के कारन पढ़ै खातिर नहीं जा पावत हवैं। अगरहुंड़ा गांव तीन किलो मीटर स्कूल भेजै मा डेर लागत हवै।
प्रधान उमा सिंह के मनसवा मंजीत सिंह कहिस कि पुरवा मा स्कूल के मांग बी.आर.सी. विभाग मा कीन गे रहै। हुंवा से स्कूल पास होइ तौ बन सकत हवै।
मानिकपुर बी.आर.सी.विभाग के समन्वयक कहिन कि सरकार कइती से स्कूल पास होइ तो बनी।