ढ़िबरी की रौशनी में भविष्य का उजाला ढूँढ रहे हैं पन्ना जिले के रखेल गाँव के लोग

जंगलो के बीच बसा पन्ना जिले के ब्रजपुर ग्राम पंचायत के लोग सात साल से बिजली के लिए तरस रहे हैं, सात साल पहले ट्रांसफार्मर जल जाने के कारण इस गांव में बिजली नहीं आयी है। कीड़े-मकोड़े के डर से यहां के लोग रात में आग जलाकर पहरा देतें हैं , तो वहीं यहां के बच्चें ढिबरी की रोशनी में अपने भविष्य का उजाला ढूढ़ रहे हैं। रात के अंधेरे में जहरीले जानवरों के काटने से दो बच्चों की मौत हो चुकी है। इससे लोग डर के साये में जी रहे हैं।
दिलीप कुमार समेत कई लोगों ने बताया कि रात में बच्चें पढ़ नहीं पाते हैं ढिबरी हवा चलने से बुझ जाती है दो लीटर तेल महीने भर नहीं चलता है। रात में मच्छर काटतें है और शादी-ब्याह में लोग डंडे में कपड़ा बांधकर मिट्टी के तेल में डुबोते है फिर उसी को जलातें हैं। जितेन्द्र का कहना है कि बिजली विभाग का श्रीकांत सभी घरों से सौ-सौ रूपये ले गया था, कह रहा था कि पन्द्रह दिन में बिजली आ जायेगी किन्तु अभी तक नहीं आई है।
बिजली विभाग का आपरेटर श्रीकांत का कहना है कि लोग बिजली का बिल नहीं भरते थे तब बिजली काट दी गई थी तो लोग कटिया फंसाकर बिजली जलते थे इस कारण दो साल पहले ट्रांसफार्मर जल गया था। सौभाग्य योजना के तहत पन्द्रह दिन में ट्रांसफार्मर लग जायेगा।

रिपोर्टर- चंदा

Uploaded on Apr 9, 2018