डॉ. भीमराव आंबेडकर के नाम में जुड़ेगा “राम जी”

साभार: विकिपीडिया

संविधान निर्माता डॉ. भीमराव आंबेडकर के नाम के साथराम जीजोड़ दिया जाएगा।
उत्तर प्रदेश सरकार ने डॉ. भीमराव आंबेडकर का नाम बदलकर डॉ. भीमराव रामजी आंबेडकर करने के लिए सभी विभागों और इलाहाबादलखनऊ की सभी हाई कोर्ट की बेंचों को आदेश दिया है।
दरअसल, संविधान के पन्ने में बाबा साहब का डॉ. भीमराव रामजी आंबेडकर के नाम से हस्ताक्षर शामिल है।
बाबासाहब डॉ. भीमराव आंबेडकर महासभा के निदेशक डॉ. लालजी प्रसाद निर्मल कहते हैं कि इस कैंपेन को राज्यपाल राम नाईक ने दिसंबर 2017 में शुरू किया था। राम नाईक ने प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री और महासभा को पत्र लिखकर आंबेडकर के नाम का सही उच्चारण और सही नाम लिखने के लिए ध्यान आकृष्ट कराया था।
लालजी प्रसाद कहते हैं, ‘मुख्य बिंदु यह है कि उनके नाम का सही उच्चारण होना चाहिए। अंग्रेजी में उनके नाम की स्पेलिंग सही है लेकिन हिंदी में उनके नाम की स्पेलिंग बदलनी होगी और इसे अंबेडकर लिखकर आंबेडकरलिखा जाना चाहिए। वहीं रामजी उनके पिता का नाम था। महाराष्ट्र में पुरानी परंपरा के आधार पर पिता का नाम बेटे मध्य नाम के लिए इस्तेमाल करते आए हैं।
बता दें कि 14 अप्रैल को आंबेडकर जयंती भी है, ऐसे में समय के लिहाज से सरकार के इस आदेश के कई मायने निकाले जा रहे हैं।  इस आदेश के बाद बीजेपी के दलित नेता और मायावती सहित कई दलित समर्थक नाराज़ हैं।