डॉक्टर और स्वास्थ्य सेवा: गोरखपुर, एक साल बाद