डी.आई.जी. से नियाव के गोहार

2जिला चित्रकूट, शहर कर्वी, मोहल्ला बल्दाऊ गंज। हेंया के कृष्ण कुमार के औरत प्रीति गुप्ता (उमर चौबीस साल) का कर्वी कोतवाली पुलिस 24 नवम्बर का दिन 11 बजे मिट्टी के तेल से नहाई कोतवाली लाई। साथै ससुर अउर देवर का भी लाई रहै, पै कुछ देर मा छोड़ दिहिस। 26 नवम्बर का डी.आई.जी. का दरखास दिहिस है।
प्रीती गुप्ता का कहब है-“मैं एक साल से आपन मइके मा रहत रहौं। 13 नवम्बर का ससुराल वाले मोरे मइके (जिला बांदा, ब्लाक नरैनी, गांव अतर्रा) मा जातीय पंचायत कइके मोहिका लेवा लायें। दहेज न लावैं के बात का लइके 24 नवम्बर का ससुर भागवत प्रसाद, देवर अनिल अउर सुनील पकड़ के हाथन का चाकू से गोदिन। तेल डाल के आगी लगा के कमरा मा बन्द कई दिहिन। पुलिस का 100 नम्बर मा फोन कइके सहायता मांगेव तबै कर्वी कोतवाली के पुलिस मउके मा घर मा जा के जान बचाइस है। मोर अस्सी प्रतिशत शरीर जल गा है।  कर्वी कोतवाली के कोतवाल राकेश कुमार सिंह का कहब है कि एस.आई. विजय भदौरिया मउके मा गे रहैं। प्रीति गुप्ता का घर के पीछे से कुड़ी खोल के निकाल के लाये हंै। या मामला का मुकदमा मा ससुराल वालेन के खिलाफ धारा 498 ए (दहेज उत्पीड़न) 326 ख (आगी लागै खातिर मिट्टी का तेल डालब) 323 (मारपीट) लाग है। इं धारन के तहत पांच साल के जेल है।”
डी.आई.जी. भजनी राम मीना का कहब है कि या मामला मा कारवाही कीन जई। कर्वी के एस.पी. का मैं आदेश दीने हौं कि ससुराल वालेन के खिलाफ मुकदमा लिख के धारा लगावै। प्रीती के मेडिकल जांच खातिर महिला थाना के पुलिस दीन गे हैं। कृष्ण कुमार फोन मा कहिस है कि वा इलाज का पूरा खर्चा उठाई।