डिलीवरी केंद्र में जब लोग हो छुट्टी पर, तब क्या हो उपाय? जवाब किसी के पास नहीं, बांदा के पनगरा गांव में

27/06/2017 को प्रकाशित

जिला बांदा, ब्लाक महुवा, गांव पनगरा दुई महीना से हेंया का डिलेवरी उपकेन्द्र बंद पड़ा है।जेहिसे गर्भवती मेहरियन का बहुतै परेशानी होत है।दस गांव के मड़ई या उपकेन्द्र मा आवत है पै बंद होय के कारन कत्तौ नरैनी तौ कत्तौ बांदा जात है गांव का प्रधान डिलेवरी उपकेन्द्र खोले खातिर सी.एम.ओ. का दरखास भी दिहिस है पै अबै तक कुछौ कारवाही नहीं भे आय।जिला बांदा, ब्लाक महुवा, गांव पनगरा दुई महीना से हेंया का डिलेवरी उपकेन्द्र बंद पड़ा है।जेहिसे गर्भवती मेहरियन का बहुतै परेशानी होत है।दस गांव के मड़ई या उपकेन्द्र मा आवत है पै बंद होय के कारन कत्तौ नरैनी तौ कत्तौ बांदा जात है गांव का प्रधान डिलेवरी उपकेन्द्र खोले खातिर सी.एम.ओ. का दरखास भी दिहिस है पै अबै तक कुछौ कारवाही नहीं भे आय। नीलू अउर चंचल बताइन कि डिलेवरी उपकेन्द्र बंद होय से बहुतै मड़इन का लउटे  का पड़त है।गर्भवती मेहरियन का तौ बहुतौ परेशानी उठावे का पड़त है काहे से नरैनी अउर बांदा जायें मा बहुतै समय लागत है।जेहिसे मेहरियन के हालत खराब होइ जात है। साधुराम प्रजापति बताइस कि गर्भवती मेहरियन का दूसर जघा लइ के जाये मा वाहन ढूढ़े का पड़त है।सायना बानो बताइस कि मई से उपकेन्द्र बंद पड़ा है पै दूसर एनम नहीं भेजी गे आय।उपकेन्द्र के ए.एन.एम. छुट्टी मा चली गे है। सी.एम.ओ संतोष कुमार का कहब है कि एनम छुट्टी मा है दूसर ए.एन.एम. भेजी जई।सरकार कइत से केत्ती लापरवाही कीन जात है मड़इन का ए.एन.एम. के छुट्टी का इन्तजार न करै का पड़ी।

रिपोर्टर-  गीता देवी