डाक्टर के लापरवाही से शिशु कै मउत

जिला अम्बेडकर नगर, ब्लाक भीटी, गांव टंडौली। हिंआ कै राधिका जिला अस्पताल मा प्रसव खातिर गई। महिला डाक्टर रात मा न मिलै से सुबह आपरेषन से बच्चा निकारगै बच्चा कै मउत होइगै रही। पति राजहिंद वर्मा डिप्टी सी.एम.ओ. अउर मुख्य सचिव का षिकायती पत्र भेज के उचित कार्यवाही कै मांग करिन।
पति राजहिंद बताइन कि मेहरारु राधिका कै प्रसव के समय नजदीक रहा। तबीयत खराब हुवय से 28 मई 2014 का जिला अस्पताल मा लै गयन। महिला डाक्टर बी. वर्मा का देखायन तौ वै अल्ट्रासाउण्ड कै रिपोर्ट मांगिन। अल्ट्रासाउण्ड कराय के देखायन तौ बताइन अबहीं पन्द्रह दिन बाद प्रसव होये। जब घरे लै आयन तौ तबीयत ज्यादा खराब होयगै फिर जिला अस्पताल का लै गयन। महिला डाक्टर नार्मल प्रसव हुवय कै बात कहिके चली गई। वकरे बाद न कउनौ डाक्टर न नर्स देखै तक नाय आई खाली दाई मौजूद रहिन। राधिका कै तबीयत खराब हुवत जात रही पूरी रात इधर उधर डाक्टर के ताई दौड़त रहेन लकिन केहू सुनै वाला नाय रहा। वहि दिन रात मा जयश्री गुप्ता कै ड्यूटी रहा लकिन वै अस्पताल मा रात भै सोवत रहीं देखैं तक नाय आइन।
रात दुई ढ़ाई बजे तक बच्चा पेट मा सही सलामत रहा तीन बजे तक पेट मा ही खत्म होइगै। सबेरे सादा कागज पै साइन कराय के सुषमा गुप्ता आपरेषन कै दिहिन। खून बन्द न हुवय से फैजाबाद अस्पताल लै गयन दुबारा आपरेषन करायन तब जाए के खून बन्द भै। मरै के स्थिति मा होइगै रहीं। जयश्री गुप्ता के खिलाफ डिप्टी सी.एम.ओ. अउर मुख्य सचिव स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण षासन लखनऊ उत्तर प्रदेष का षिकायत पत्र देहे हई।
मुख्य चिकित्सा अधीक्षक ए.के. त्रिपाठी बताइन कि जानकारी मिली बाय जांच कराय जाये दोषी मिले पै वहि चिकित्सक के विरुध्द कार्यवाही होये।